सहरा कहीं हयात कहीं दाम आ पड़ा 

01-04-2021

सहरा कहीं हयात कहीं दाम आ पड़ा 

कु. सुरेश सांगवान 'सरू’

221     2121     1221   212
 
सहरा कहीं हयात कहीं दाम1 आ पड़ा 
हर रास्ते में एक नया रास्ता पड़ा
 
कुछ इसलिए थकान मुझे बेकरां2 हुई
ख़ुद तिश्नगी में मुझको कुआं खोदना पड़ा 
 
जिनको नहीं था इल्म मिरी दास्तान का 
लेना उन्हीं से हाय मुझे मशवरा पड़ा
 
ऐसा भी क्या सवाल भला मैंने कर दिया 
सुनकर तिरा जवाब मुझे सोचना पड़ा
 
कोशिश रही गुलाब ही देता चलूं उसे
दुनिया में जिस किसी से मेरा वास्ता पड़ा
 

1. दाम=फंदा

2. बेकरां=असीमित

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में