साजन बिन सावन

01-08-2020

हो पिया जब परदेश में 
सावन भी सूखा लगता है 
सजनी का हर शृंगार भी 
पी बिन अधूरा लगता है 

 

बारिश की हरेक बूँद भी 
तब आग ही बन जाती है 
सावन की सुहानी रातों में 
जब याद पिया की आती है 

 

व्याकुल रहता है मन 
मिलन को तरस जाता है 
बिना साजन सारा सावन 
आँखों से ही बरस जाता है 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें