रोशनी के साए में

01-08-2019

रोशनी के साए में

बलजीत सिंह 'बेनाम'

रोशनी के साए में तीरगी अधूरी थी
होश भी अधूरा था बेख़ुदी अधूरी थी

 

ज़ुल्फ़ भी न खुल पाई हुस्न भी न खिल पाया
रात भी न पूरी थी चाँदनी अधूरी थी

 

रो नहीं सके खुल के इंतज़ार में उसके
आँख में नमी तो थी पर नमी अधूरी थी

 

जुस्तजू सुकूँ की थी मिल सकीं न राहें जब
लौट कर कहाँ जाते रहबरी अधूरी थी

 

आज ये कहेंगे हम सत्य की कसौटी पर
तुम अगर नहीं मिलते ज़िन्दगी अधूरी थी

0 Comments

Leave a Comment