रोहिड़ा के फूल

15-05-2020

रोहिड़ा के फूल

रामदयाल रोहज

खिले फूल लाखों रोहिड़ा
जैसे मरुधर की आँखें
धधक रहे अंगारों से
जलती तरुवर की शाखें


भरे हुए मकरंद से पूरे
फिर भी जलते जाते
कान पकड़ कर गर्मी को
महीनों से पुन: जगाते


मरु तांडव कम करने को
जप करता जीवन सारा
टीले-शिवलिंग पर हरदिन
करता रहता जल धारा


जिसे सजाकर बालों में
हर्षित होती बन बाला
बन जाती है ग़ज़ब परी
कंठों में पहन कर माला


खिले फूल से गोल गाल
यौवन छल-छल करता है
मुग्ध रवि निज क़दमों को
धीरे-धीरे धरता है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें