रो रही हस्तिनापुरी

20-02-2019

रो रही हस्तिनापुरी

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

घूमती धरती जतन से बाँधकर अपनी धुरी

कुछ समझ आए न
होगी सेंध कितनी और गहरी
जंग में उलझे हुए हैं
इधर गँवई-उधर शहरी
मुँह कहे श्रीराम पीछे भोंक देता है छुरी

पेड़ के पत्ते झरे सब
कट रही हैं टहनियाँ
तालियाँ हिन्दू बजाते
आरियाँ पकड़े मियाँ
खोल अपने बाल दौड़ीं शक्तियाँ सब आसुरी

बोलियों पर बोलियाँ
बढ़ती गयी ज़िंदा रकम
आज होगा फैसला
है कौन ज़्यादा-कौन कम
मुँह छिपाते हैं पितामह रो रही हस्तिनापुरी

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो