रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु - 1

01-03-2019

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु - 1

रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

माहिया

1.
तुम चन्दा अम्बर के
मैं केवल तारा
चाहूँगा जी भरके।

2.
तुम केवल मेरे हो
साँसों में ख़ुशबू
बनकरके घेरे हो।

3.
जग दुश्मन है माना
रिश्ता यह दिल का
जब तक साँस निभाना।

4.
तुझको उजियार मिले
बदले में मुझको
चाहे अँधियार मिले।

5.
तुम सागर हो मेरे
बूँद  तुम्हारी हूँ
तुझसे ही लूँ फेरे।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
साहित्यिक आलेख
कविता
नवगीत
लघुकथा
सामाजिक आलेख
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
बाल साहित्य कहानी
कविता-मुक्तक
दोहे
कविता-माहिया
विडियो
ऑडियो