04-02-2019

राघवेन्द्र पाण्डेय मुक्तक 1

राघवेन्द्र पाण्डेय 'राघव'

1.
सुप्त जल में कंकण फेंकता है कोई
रुका हुआ पानी फिर से बुलबुला देता है
पहाड़ जैसा दुख हो या हो काँटों सी ज़िंदगी
..........वक़्त सब कुछ भुला देता है

2.
हर कोई हर हुनर में पाक़ नहीं हो सकता
काम गर है जो अधूरा भी काम आता है
न समझिए किसी को छोटा और खुद को बड़ा
गाँव में है जो धतूरा भी काम आता है

3.
हर बात में जो खुद को बुद्धिमान समझते हैं
छोटी सी भी तारीफ को यशगान समझते हैं
उनके सिवाय भी थी ये दुनियाँ इसी तरह
पर जाने क्यूँ वो दुनियाँ को नादान समझते हैं

4.
जैसे चाहें खर्च करें यह शाम आपके ऊपर है
काम करें या कर लें फिर आराम आपके ऊपर है
मित्र बनायें सगरे जग को, जीत लें सबका दिल
या रणभेरी बजा करें संग्राम आपके ऊपर है

5.
दोराहे पर खड़ा हूँ, प्यासा-खाली पेट
एक तरफ बीड़ी जली, एक तरफ सिगरेट
बाहर दुनिया जल रही, लपटें- भीषण आग
मैं अब भी सुलझा रहा, मन के लाग लपेट

6.
बार-बार चिर सत्य सामने आता है,
हर बार उसे मन झुठलाने की कोशिश करता है
जोड़- जोड़ कर जीवन भर बाँधा पूँजी की गठरी
पर अंत समय वह एकाकी लावारिस बचता है..........

7.
सब के सुख में सुख, सभी के ग़म से ग़म हो
आदमी के बीच दूरी, कम से कम हो
टूट जाएँ वर्जनाएँ, ऐसा प्यारा घर बनायें
और मिट जाए, जो मन में कुछ वहम हो

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो