भूखा अंकित मचल गया,
उसने काटी गबड़ी।
बोला मम्मी खाना दे दो,
भूख लगी है तगड़ी।

मम्मी बोलीं पेड़ कट गये,
नहीं बची है लकड़ी।
आ-जा रखकर गैस बना दूँ,
तेरे ख़ातिर रबड़ी॥

1 Comments

Leave a Comment