प्यासी धरती प्यासे लोग

15-06-2020

प्यासी धरती प्यासे लोग

रामदयाल रोहज

गिद्ध टोह ले रहे है
पूरे प्रदेश में पेयजल की
दूर दूर दृगों के
दूरबीन से देखते है
वायु की सीढ़ी से
अंबर पर चढ़कर


धूप चुरा कर ले गई है
झील बाला की जल कटोरी
सहेली का दुःख देखकर
प्राण त्याग रही है मछलियाँ


ख़ाली हो चुकी है कुइयाँ-
पानी की बोतलें
सूखे कंठ उदास आँखें
प्यासी सिसकती वसुधा


ऊँचे आसमान को देखते है
थके हारे हिरन
आशाभरी भीगी दृष्टि से
भिक्षुक की तरह


मौन बैठा है टीला
सूखे घास का साफा बाँधे
डूबा हुआ है चिंता में
गर्दन झुकाकर
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें