प्यार के गीत गाते रहो

15-09-2020

प्यार के गीत गाते रहो

जितेन्द्र मिश्र 'भरत जी' 

प्यार के गीत गाते रहो
तुम सदा यूँ ही मुस्कुराते रहो।
ज़िंदगी की बड़ी है कठिन डगर,
ख़ुशियों के गीत सदा गुनगुनाते रहो।
 
हँसते-हँसते ये रास्ता कट जाएगा,
ग़म का बादल सदा यूँ ही छँट जाएगा।
प्रेम की डोर यूँ ही पकड़ कर चलो,
कुछ ना कुछ बोझ जीवन का बँट जाएगा।
 
उदासी न हो ना ही अफ़सोस हो,
मन में यूँ ही हमारे नया जोश हो।
प्रीत पलती रहे ज़िंदगी में सदा,
मन में अपने न कोई आक्रोश हो।
प्यार के गीत गाते रहो...॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें