प्रिय भाई! प्रिय आलोचक!

12-01-2016

प्रिय भाई! प्रिय आलोचक!

दिविक रमेश

एक आवाज़ है, बहुत सधी, लेकिन मौन
पूछती सी
कौन? 

 

एक प्रश्न है यही
बहुत सरल नहीं जिसका उत्तर
अगर देना पड़े खुद
अपने संदर्भ में, और वह भी ईमानदारी से। 

 

समझ यह भी आता है
कि बहुत आसान होता है
व्याख्यायित करना अपने से इतर को
कि वह पेड़ है कि वह जड़ है
कि वह वह है कि वह वह है
और यह भी कि वह ऐसा है और वह वैसा है।

 

और जो वह और वह भी
होता / नहीं होता हमारी निगाह में
अक्सर वही कुछ होने का
हम करते हैं दावा / या नहीं करते।

 

और यूँ जाने अनजाने
दे बैठते हैं एक गलत उत्तर
अक्सर।

 

कुछ समझे 
प्रिय भाई
प्रिय आलोचक! 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
पुस्तक समीक्षा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
सांस्कृतिक कथा
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कहानी
बात-चीत
विडियो
ऑडियो