प्रेम-संदेश

02-12-2018

प्रेम-संदेश

संजय वर्मा 'दृष्टि’

आकाश को निहारते मोर
सोच रहे, बादल भी इज़्ज़त वाले हो गए
बिन बुलाए बरसते नहीं
शायद बादल को
कड़कड़ाती बिजली डराती होगी
सौतन की तरह ।

बादल का दिल पत्थर का नहीं होता
प्रेम जागृत होता है
आकर्षक सुंदर, धरती के लिए
धरती पर आने को
तरसते बादल
तभी तो सावन में
पानी का प्रेम -संदेशा भेजते रहे
रिमझिम फुहारों से ।

धरती का रोम -रोम, संदेशा पाकर
हरियाली बन खड़े हो जाते
मोर पंखों को फैलाकर
स्वागत हेतु नाचने लगते
किंतु बादल चले जाते
बेवफ़ाई करके
छोड़ जाते हरियाली/ पानी की यादें
धरती पर
प्रेम संदेश के रूप में।

0 Comments

Leave a Comment


A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: