प्रेम (रजत रानी मीनू)

15-09-2020

प्रेम (रजत रानी मीनू)

डॉ. रजत रानी मीनू

वह उससे करता था
प्यार की बातें
प्रेम तो वह भी करती थी उससे बेइहंता
जब जब वे मिलते थे
वह उसके निकट आना चाहता था
और वह उससे दूरी बनाए रखना चाहती थी
क्योंकि वह मर्यादा
जानती थी अपनी, उसकी और समाज की
वह निकटता को प्रेम की दुहाई देता था
वह सचमुच उससे
प्रेम करती थी दूर रह कर भी
उसकी सलामती चाहती थी
मगर–
वह उससे निकटता को प्रेम
कह रहा था
झगड़ा हो रहा था रिश्ते बनने से पहले ही
रिश्ते टूट से रहे थे
प्रेम की रेस बढ़ती जा रही
चूहा-बिल्ली की दौड़
जारी थी उनके बीच
समय गुज़र गया था जैसे
गुज़र जाती है ट्रेन
वे गंतव्य पर पहुँच भी गये थे
मगर–
वह प्रेम को तलाश रही थी अभी भी
रिश्ते बन रहे थे
वह प्रेम‌ को रेगिस्तान में
पानी की तरह ढूँढ़ रही थी॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें