प्रीति अग्रवाल ’अनुजा’ - 1

15-03-2026

प्रीति अग्रवाल ’अनुजा’ - 1

प्रीति अग्रवाल 'अनुजा'

1.
सोचे समझे बिना
करें सब पे यक़ीं,
अच्छे लोगों की भी
कुछ आदतें बुरी हैं!
2.
हर ख़ुश दिखने वाले में
ख़ुशी नहीं होती . . .
जैसे,
हर ज़िंदा शख़्स में
ज़िन्दगी नहीं होती!
3.
यूँ उठती हैं लहरें
मानो छू लेंगी चाँद . . .
भरम में जीने वालों की
कमी तो नहीं!

4.
गुज़रते वक़्त के साथ
हम भी गुज़र जाएँगे . . .
सफ़र पूरा तभी होगा
जब,
आगे सफ़र पे जाएँगे!
5.
टूटे दिल का ये दर्द
भला ज़ाया क्यों हो,
चलो इसपे कोई
ग़ज़ल आज कह दें।

6.
है ये कैसा शहर
कि यहाँ पर सभी,
सब को जानते तो हैं
पर पहचानते नहीं!
7.
ख़ुशियाँ,
किसी की मोहताज नहीं,
ख़ुश्मिज़ाजी तो फ़ितरत है
या तो है . . .
या नहीं . . .!
8.
फ़ासले हम भला
तय करते, भी तो कैसे . . .
रास्तें ख़ुद ब ख़ुद
मुड़ते चले गए . . .।
9.
चाहे गीत लिखूँ मैं
या कोई ग़ज़ल,
ज़िक्र तेरा ही होगा
अंजाम भी वही . . .!
10.
दरया ए इश्क़ है
ये बहा के रहेगा . . .
इसे कब फ़िक्र
कोई क्या कहेगा . . .!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता - क्षणिका
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में