फूल के दोने

04-02-2019

फूल के दोने

शेष अमित

मंदिर के मुहाने पर,
एक कृष्णकाया दुर्दशा,
बेच रही थी-
फूल के दोने,
दोने में फूल,
ताज़े झटके डालों से,
आँसुओं की ठहरी बूँदें,
खिलखिला पड़ी हों,
चाहत के रंग-
देवी-देवताओं के,
दोनों में क़ैद-
काली को लाल,
शनि को नीले,
पीले सफेद अनंत को,
दूर आबादी से,
सिसकते पौधे फूलों के,
उदास हैं विरह वन में।

0 Comments

Leave a Comment