पत्थर में विश्वास

15-01-2021

पत्थर में विश्वास

राजनन्दन सिंह

पत्थर में विश्वास
एक सुरक्षित विश्वास है
वह अंध हो सकता है
छद्म नहीं हो सकता
क्योंकि पत्थर में
वह हृदय ही नहीं है
जहाँ कोई छद्म छुपे
वह शिव है
समदर्शी है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में