परिवर्तन

08-01-2019

कई बार
झुँझलाया हूँ मैं
सड़क के किनारे खड़ा हो
न रुकने पर बस
 
गिड़गिड़ाया हूँ कई बार
बस कंडक्टर से
ले चलने को गाँव तक
हर बार
कचोटता मेरा मन
कसमसाता 
आहत दर्प 
 
अब
गुज़रता मैं 
तेज गति वाहनों से
देखता इन्तज़ार करते
ग्रामवासियों को
किनारे सड़क के
 
नहीं कचोटता मन
न आहत होता दर्प
 
सोचता --
नहीं मेरे हाथ में लगाम
न पैरों के नीचे ब्रेक
 
नहीं
अब कोई अपराध बोध भी नहीं
मेरे मन में 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा
कविता
साहित्यिक आलेख
कहानी
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
सामाजिक आलेख
स्मृति लेख
आप-बीती
विडियो
ऑडियो