वह
दिल की
कहती कुछ नहीं है,
बहुत ख़ुश होती है
तो हल्के से,
आँखें झुकाकर
मुस्कुरा देती है।
दु:खी होती है
तो रो देती है।
हर स्थिति में,
मैं 
उसे 
ताकता रहता हूँ,
समझ कुछ नहीं पाता।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें