ओ मसीहा

05-03-2012

रात भर का जला
थका हारा दिया
सूर्य की प्रतिक्षा में
,
देखने लगा पूरब दिशा में,
            इस लम्बे सफ़र से
            टूट चुका हूँ मैं
,
            जितनी शक्ति थी मेरी
            उतना जल चुका हूँ मैं
,
                           बुझने को है
                           मेरी काया
,
                           मिटने को है
                           मेरा अस्तित्व
                           मेरी छाया
,
              अब तो
                 चले आओ तुम
                     जीवन प्रकाश ज़रा
                        दे जाओ तुम
,
                              बस यही एक सहारा है
                              इसीलिये
                              तुझे पुकारा है
,
                         ओ प्रकाश के मसीहा
                        अब तो उदय हो जाओ!!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
कविता
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो