ओ हिम धीरे से गिर

05-03-2012

ओ हिम धीरे से गिर

सुमन कुमार घई

ओ हिम धीरे से गिर
अभी ही वह सोई है,
फूल से होंठों पर खिंची
स्मिति रेखा कहती - देख,
वह सुखद स्वप्नों में खोई है
ओ हिम धीमे से गिर
अभी ही वह सोई है

 

कभी माँ, कभी पत्नी बन
सब निभाती रही वो,
कभी बेटी बन, कभी बन सखी -
दुखी मन सहलाती,
हँसती हँसाती रही वो,
कामों का अम्बार लगा था
फिर भी गुनगुनाती रही वो,
बरसों से यही दिनचर्या उसने,
धर्म - सी ढोयी है


ओ हिम धीरे से गिर
अभी ही वह सोई है

 

चौथे पहर में थक हारी
जीवन से कुछ पलों को
निज के लिए चुराया,
पुस्तक ले जब बैठी बिस्तर में
पति की मनुहारों ने उत्त्पात मचाया,
प्रीत-रीत भी निभाई उसने
बिसरी पुस्तक, थी शिथिल काया,
अभी आँख लगी तो
तुमने हिम, ले पवन संग
खिड़की के शीशों पर झंझावात उठाया,

 

मित्र - देख उसके मुख पर
फूल से होंठों पर खिंची
स्मिति रेखा कहती - देख
वह सुखद स्वप्नों में खोई है
ओ हिम धीमे से गिर
अभी ही वह सोई है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
पुस्तक चर्चा
कविता
किशोर साहित्य कविता
सम्पादकीय
पुस्तक समीक्षा
विडियो
ऑडियो