नेता जी, 
पिछले कुछ दिनों से, 
पौष्टिक भोजन खाकर, 
अपना वज़न बढ़ा रहे थे, 
क्योंकि कुछ दिनों बाद, 
वह दिन आना था 
जब उन्हें, 
नोटों से तोला जाना था!

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कहानी
हास्य-व्यंग्य कविता
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो