नए साल से कह दो कि

14-01-2016

नए साल से कह दो कि

डॉ. मनीष कुमार मिश्रा

मेरी ज़िंदगी में
आने वाले हर
नए साल से कह दो कि-

वह बिलकुल तुम्हारी तरह हो
शोख़, चंचल और मासूम
इतनी मुलायम और मख़मली
जितना कि प्यार का हर सपना
और इतनी गर्म भी
जितनी कि ज़िंदगी की साँसें

नए साल का रिश्ता,
उम्मीदों से वैसा ही हो
जैसा कि हम दोनों का सालों से है

नए साल की हर आहट
तेरे क़दमों की आहट सी हो
नए साल में सुलझना हर उलझन का ,
आसान हो उतना ही जितना कि -
तेरी रेशमी ज़ुल्फों का सँवर जाना

तेरी आँखों में बसे हर मासूम सपने की तरह
दुनिया बनती रहे
सजती रहे
सँवरती रहे

आने वाला हर नया साल
तुम्हारी तरह प्यार से भरा हो
तुम्हारी तरह ही ख़ास हो

तुम्हारी तरह ही मुस्कुराता हुआ
ज़िंदगी को ज़िंदादिली से जीने का
ख़ूबसूरत पैग़ाम हो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो