सरकता जा रहा है
रफ़्ता-रफ़्ता
हाथ से
उम्र का
एक और
मुक़ाम,
       एक और साल,
                 चला आ रहा है
                         आहिस्ता - आहिस्ता
                                   सामने से
                           विधाता का
                       एक और
                  उपहार,
          एक और साल,

 

कोई ख़ला नहीं
     कोई शून्य नहीं,
             एक हाथ से
                   कुछ निकलता है तो
                           दूसरे में कुछ
                                  चला आता है,
                       जीवन चक्र सर्वदा
               इसी परिधि में
               घूमता
               जाता
               है ......

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ग़ज़ल
नवगीत
नज़्म
अनूदित कविता
लघुकथा
विडियो
ऑडियो