नव वर्ष (भुवन चन्द्र उपाध्याय)

15-02-2020

नव वर्ष (भुवन चन्द्र उपाध्याय)

भुवन चद्र उपाध्याय

जश्न ओ जूनूं जहां में छा गया है
स्वागत नया साल तू आ गया है


अनसुलझी पहेली, सुलझने लगेगी
सवालो सैलाब, हल देने लगेगी
फ़िज़ायें गर्द अपनी, धोने लगेंगी
बहारों में शोख़ी, मचलने लगेगी


जज़्बाते दिले, नायाब आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


तन्हाई ज़िंदगी से रुख़्सत करेगी
वफ़ाई हर इंसा में, शिरकत करेगी
चहकेंगे चेहरे, सभी के हँसी से
दोनों जहां मिल, महकेंगे ख़ुशी से


ख़ूबसूरत ख़्वाबो ख़्याल आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


ज़मीं से फ़लक तक, हमदम बनेंगे
क़दम दर क़दम रख, हरदम बढ़ेंगे
हंसी चाहतों का, सफ़र आ गया है
दुआ में वफ़ा का, असर आ गया है


निगेहबां इस दफ़ा इक नया आ गया है
सबको मुबारक नया साल आ गया है


मुर्झायी हसरतें फिर, खिलने लगेंगी
दुश्वारियाँ अब दूर, हटने लगेंगी
दरमियां मोहब्बत का, आग़ाज़ होगा
नादानियाँ हये! दौर थमने लगेंगी


रुक ऐ ज़िंदगी, नया राह आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


उम्मीदों के लौ से, रोशन होगी दुनियां 
दिलों में शराफ़त की, जलेगी बिजुलियाँ
ठुकरायेगी दोहरे, स्याह फ़लसफ़े को
चैन- ओ-अमन से,  जियेगी दुनियां


सब सलामत रहें, जज़्बात आ गया है
सबको मुबारक, नया साल आ गया है


किसी पे करम सितम वो कहीं पर
बेदर्द मौसम सिकन ला गया है
फ़ासले सिमटे तब महसूस होंगे
जब सब कहेंगे वो निशां आ गया है


बेपनाह चाहतों का समां आ गया है
सबको मुबारक नया साल आ गया है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें