20-01-2019

नरेन्द्र श्रीवास्तव - 1

नरेंद्र श्रीवास्तव

हाइकु - 1

बेसुध नदी
मछली-सी तड़पे
जल माँगती।
*
छाया ने लिखी
जल पर कविता
धूप पढ़ती।
*
कुआँ भूत-सा
नदी पगडंडी-सी
ये क्या हो गया?
*
क़लम लिखे
जल पर कविता
अक्षर रोये।
*
नयन नीर
सागर से जा मिले
तुम न मिले।
*

0 Comments

Leave a Comment