नरेन्द्र श्रीवास्तव - 5

15-08-2019

नरेन्द्र श्रीवास्तव - 5

नरेंद्र श्रीवास्तव

1.
प्यासी धरती
बरखा की बूँदों में
घड़े का पानी।
2.
काली घटायें
बूँदों को विदा देने
नभ पे आयीं।
3.
बरखा बूँदें
आकाश से बिछड़ी
धरा में खोयीं।
4.
अषाढ़ मेघ
जल कलश लिये
पावस पर्व।
5.
बरखा बूँदें
शीशे के मंदिर में
तस्वीर तेरी।
6.
बरखा बूँदें
गुनगुनातीं रहीं
विरह गीत।
7.
बरखा बूँदें
बहाती रहीं आँसू
बाट जोहती।
8.
बरखा बूँदें
यत्र तत्र सर्वत्र
तुझे ढूँढ़तीं।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
अपनी बात
कविता - हाइकु
किशोर साहित्य लघुकथा
लघुकथा
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नवगीत
विडियो
ऑडियो