नमन प्रार्थना

01-07-2020

नमन प्रार्थना

राजनन्दन सिंह

अमृतमयी हे अमृतदायिनी
सर्वकला विद्या प्रदायिनी
पुस्तक धारिणी वीणावादिनी
वंदन वंदन हे हंस वाहिनी


नमन प्रार्थना और अभिलाषा
मन में दो हे माँ जिज्ञासा
विद्या बुद्धि विवेक सहित माँ
मन में भर दो ज्ञान पिपासा


अमृतमयी हे अमृतदायिनी
सर्वकला विद्या प्रदायिनी
धवल वस्त्रे सरस्वती माँ
हे भारती सौभाग्यदायिनी॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो