नेल पालिश

31-10-2014

अपनी लंबी, पतली और गोरी उँगलियों पे
लगे नेल पालिश को दिखाते हुए
उसने पूछा –
तुम्हें ये अच्छे लगे
आज ही लगाए हैं
‘लेटेस्ट पैटर्न’ है


मैंने मुस्कुराते हुए कहा –
बहुत अच्छे हैं
तुम्हारे हाथ बहुत अच्छे हैं
तुम बहुत अच्छी हो
तुमसे जुड़ी हर चीज़ बहुत अच्छी है
कुछ चीज़ें पुराने पैटर्न की भी हैं
बस उनके बारे में नहीं कह सकता


वह बोली-
नहीं,
तुम बहुत अच्छे हो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो