नाजायज़ रिश्ता

15-04-2020

नाजायज़ रिश्ता

आलोक कौशिक

"अगले हफ़्ते डैडी घर आ रहे हैं। मैं आप दोनों की करतूतों के बारे में डैडी को ज़रूर बताऊँगी। घर को नर्क बना कर रख दिया है," ज्योति ने अपनी माँ और चाचा को धमकाते हुए कहा। 

ज्योति तेईस वर्षीया युवती थी। ज्योति के पिताजी निर्मल सिंह फ़ौजी थे और माँ नीलम देवी नर्स थीं। मनीष और आकाश दो छोटे भाई थे। दोनों दूसरे शहर में रहकर पढ़ाई करते थे। फ़ौज में सेवारत होने के कारण निर्मल सिंह अपने घर पर अपने परिवार के संग बहुत कम समय व्यतीत कर पाते थे। ज्योति के चाचा ने दो शादियाँ की थीं। लेकिन शराबी एवं व्यभिचारी होने के कारण दोनों शादियाँ असफल रहीं। अपनी पत्नी के कहने पर निर्मल सिंह ने अपने भाई को अपने घर में शरण दे दी थी। 

माँ और चाचा को धमकाने के बाद ज्योति अपने कमरे में चली गई। दरअसल, आज फिर उसने अपनी माँ और चाचा को संभोगरत अवस्था में देख लिया था। 

अगले हफ़्ते जब निर्मल सिंह घर आए तो व्यथित होते हुए ज्योति ने उन्हें अपनी माँ और चाचा के प्रेम प्रसंग के बारे में सब कुछ बता दिया। 

निर्मल सिंह ने जब ज्योति के परोक्ष में अपनी पत्नी और अपने भाई से इस संबंध में पूछताछ की तो उन लोगों ने उन्हें मोबाइल फोन में एक वीडियो क्लिप दिखाया। जिसमें ज्योति और उसका प्रेमी आलिंगनबद्ध होके एक दूसरे को चूम रहे थे।

वीडियो क्लिप दिखाने के बाद नीलम देवी ने अपने पति से कहा - "जब हम दोनों ने ज्योति को इस नाजायज़ रिश्ते से दूर रहने को कहा तो ज्योति ने हमारी बात मानने से ढीठतापूर्वक इंकार कर दिया और कहा कि वह अपने अंतर्जातीय प्रेमी से ही विवाह करेगी, क्योंकि वह दो महीने की गर्भवती है। आपके सामने उसका भेद कहीं हम दोनों खोल ना दें, इस डर से उसने ऐसा घटिया आरोप हम दोनों पर लगा दिया।" 

अगले दिन ज्योति की हत्या के जुर्म में पुलिस ने निर्मल सिंह को गिरफ़्तार कर लिया। अदालती कार्यवाही के पश्चात निर्मल सिंह को कारागार भेज दिया गया। शव परीक्षण विवरण रिपोर्ट में पाया गया कि ज्योति गर्भवती नहीं थी। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो