मूर्खता और मुग्धता

01-07-2020

मूर्खता और मुग्धता

राजनन्दन सिंह

मूर्खता की स्थिति
मुग्धता से
कहीं अच्छी होती है
मूर्खता के पास
अपने प्रश्न होते हैं
अपना उत्तर होता है
अपनी बुद्धि होती है
अपनी संतुष्टि होती है
और अपने पुनः प्रश्न
पुनः - पुनः प्रश्न होते हैं
क्योंकि मूर्खता
प्रश्न बहुत करती है
बिच्छू यह कभी नहीं समझता
कि साधू उसकी जान बचा रहा है
वह बार-बार डंक मारता है


मुग्धता का अपने आप में
अपना कुछ नहीं होता
न प्रश्न न उत्तर
न बुद्धि न संतुष्टि
मुग्धता का सबकुछ
उस मुट्ठी में होता है
जिस मुट्ठी पर 
मुग्धता मुग्ध रहती है 
जी हाँ
सँपेरे की उस उल्टी मुट्ठी में
वस्तुतः कुछ नहीं होता
जिसे दिखाकर 
वह साँप को घुमाता है
मूर्खता की स्थिति
मुग्धता से थोड़ी अच्छी 
इसलिए होती है
कि साँप की तरह बिच्छू
कभी किसी मजमे का तमाशा 
नहीं बनता।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो