मूल्यों के मरने पर जन्मती हैं मूर्तियाँ

15-01-2020

मूल्यों के मरने पर जन्मती हैं मूर्तियाँ

अनुराधा सिंह

अबकी बारी आपकी प्रभु
सरयू तट पर स्थापित होंगे
रुपये दो सौ करोड़ में
दुनिया भर में खड़ी 
गगनचुम्बी प्रतिमाओं की नींव में दफ़न हैं
सिद्धांत महापुरुषों के
पढ़ा है आपके महल में भी थीं -
प्रतिमाएँ पूर्वजों की
पर इतनी भव्य तो नहीं थीं
रघुवंशियों को प्रिय थी प्रजा. . . प्रतिमा नहीं


किन्तु प्रजातंत्र में प्रजा सिर्फ़ मतदाता
निर्णायक हैं सत्ता और दंश सत्ता का
कौन जानेगा आपसे अधिक 
किशोरावस्था में ऋषियों की रक्षा
राक्षसों के संहार को पठाये गये वन
राज्याभिषेक की जगह -
चौदह वर्ष का वनवास
लौटने पर सत्ता तो मिली. . .
सीता चली गयी
छली सत्ता के समक्ष 
कितने असहाय थे आप
की अंततः शरण ली
सरयू मैया की गोद में


उसी तट पर फिर उभारेंगे 
गगनचुम्बी प्रतिमा आपकी
शायद उतनी ऊँचाई से देख पाओगे 
दवाओं के अभाव में मरते दुधमुँहे बच्चों को
शिक्षकों, सुविधाओं के अभाव में 
भटकते लव-कुशों को
धरती में प्रतिदिन समाती सीताओं को 
और रामनामी ओढ़े रावणों को


मैं सोच सकती हूँ 
कितने असहाय होंगे इस बार आप
अब तो डूबने भर को 
पानी भी नहीं बचा है सरयू में फिर भी
मैं रहूँगी आपके साथ हर हाल में
भीतर की श्रद्धा मर जाती है
तब बाहर बनती हैं मूर्तियाँ विशालकाय!

0 Comments

Leave a Comment