मुखिया तभी याचना करते-
जब होते हैं परेशान, 
देखकर न जाने –
नहीं रहे कहना उनका मान।


नहीं है इसमें केवल –
उनकी भलाई,
वे चाहते हैं-
उनके आँगन की,
न रहे कोई कली मुरझाई।


हाथ जोड़-
कर रहे वे  निवेदन,
जानें कैसे हैं वे लोग? 
जिनके हृदय-
व दिमाग़ में,
है न कोई स्पंदन।


उनका विनम्र होना-
दीन न समझा जाए,
न जाने किस-
गुमान में हैं सब?
बात समझ न पाए।


घर रह कर संतुष्टि ही पाएँ –
न जाएँ घर से दूर,
बाहर कोई भयानक आहट –
न सता जाए।


शायद ज़्यादा सामाजिक होना-
पड़ रहा है आज भारी,
क्योंकि दुनिया पूरी सिमटने लगी-
अपने–अपने घरों में सारी।


घर रहकर शुभ विचारों का-
करें ध्यान,
बीमारी से दूर रहकर-
करें अपना परिवार,
देश का ही नहीं-
अपितुविश्व का भी,
उद्धार, सम्मान व कल्याण।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें