मुझको अपना एक पल...

03-05-2012

मुझको अपना एक पल...

मानोशी चैटर्जी

मुझको अपना एक पल वे दे के अहसाँ कर गये
जाने अनजाने मेरे जीने का सामाँ कर गये

क्या कहें कि सबसे आके किस तरह से वो मिले
मुझको मेरे घर में ही जैसे कि मेहमाँ कर गये

बाद मुद्दत के ज़रा सा चैन आया था अभी
हाल मेरा पूछ कर वो फिर परेशां कर गये

दोस्ती ना की सही अब दुश्मनी कर ली, चलो
कुछ नहीं तो एक रिश्ता ही दरमयाँ कर गये

लोगों का अब चाँद से तो फ़ासला कम हो गया
अपने घर की ही ज़मीं को ‘दोस्त’ वीरां कर गये

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल
लघुकथा
कहानी
कविता
कविता - हाइकु
दोहे
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में