मुझे आत्मा शरीर समझाने लगा

15-03-2021

मुझे आत्मा शरीर समझाने लगा

संजय कवि ’श्री श्री’

उसने कहा
माटी का तन है,
तुच्छ
नश्वर जीवन है।
फिर
जीवन को
अमूल्य बताने लगा;
मैंने पूछा,
तुच्छ है
तो अमूल्य कैसे?
मुझे आत्मा शरीर समझाने लगा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कविता - क्षणिका
नज़्म
खण्डकाव्य
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में