मुफ़्त सेवा का अर्थशास्त्र

15-03-2021

मुफ़्त सेवा का अर्थशास्त्र

राजनन्दन सिंह

समय चाहता है
मुफ़्त के उपदेश पर
मुफ़्त ज्ञान  के वितरण पर 
सरकारी प्रतिबन्ध हो
 
ऐसे उपदेशों और ज्ञान की कक्षा में
व्यक्ति जीवन भर बैठता है
मगर ज्ञानी नहीं होता
मुफ़्तोपदेश एक प्रपंच है
समाज का इससे द्वंद्व हो
 
उपदेशों का  एक तय प्रमाणिक
मानक पाठ्यक्रम हो 
शुल्क हो परीक्षा हो 
प्रमाण पत्र  डिप्लोमा हो 
डिग्री हो कुछ लाभ हो
दो रोटी का अनुबंध हो
 
मुफ़्त सेवा का अर्थशास्त्र
कहाँ होती है इसकी पढ़ाई
सवा सौ देशों में आश्रम
लाखों समर्पित जीवनदानी
अथाह अथाह कमाई?
मुफ़्त सेवा की आड़ में
यह छद्मार्जन बंद हो
 
समय चाहता है
मुफ़्त के उपदेश पर
मुफ़्त ज्ञान  के वितरण पर 
सरकारी प्रतिबन्ध हो

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में