तुम्हारे बारे में सोचते हुए
आदतन, बार-बार
मोबाईल को जेब से निकाल कर
देख लिया करता था
 
यह सोच करके कि
कंही तुम्हारा कोई ‘काल’
मैं ‘मिस’ ना कर दूँ
 
हँसी आती है
यह सोच के कि
मैं कितना ‘मिस’ करता था।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
कविता
कविता - क्षणिका
कहानी
विडियो
ऑडियो