मेरी बिटिया

15-07-2020

प्रकृति का उपहार है बिटिया
युगों युगों का प्यार है बिटिया
छोटी सी मनुहार है बिटिया
घर घर का शृंगार है बिटिया


बड़ी मन्नत से पाया है उसे
बड़े स्नेह से पाला है उसे
ख़ूब नज़दीक से देखा है उसे
रोया हूँ जब तकलीफ़ में देखा उसे


चीख़ छोटी सी उसकी
अधीर कर देती है मुझको
उसकी प्यारी तुतलाती बातें
नई ऊर्जा से भर देतीं हैं मुझको


थक कर जब में चूर होता हूँ
पा लेती है मेरे आने की आहट
मुस्कुराती दौड़ी चली आती है
लिपट कर धो देती है थकावट


उसके नरम हाथों का स्पर्श
स्वर्गिक सुख दे जाता है
उच्चारण छोटे शब्दों का
सरगम गान सुना जाता है


सुंदरता अनुपम आँखों की
असीम सुधा रस बरसाती है
दंत क़तारें अधरों के बीच
दाड़िम सम सरसाती हैं


छोटे पाँवों के घुँघरू की
छम छम की स्वर लहरी में
कर्णप्रिय ध्वनि की धारा में
डुबो रही जो अमृत रस में


किलकारी छोटी सी उसकी
घर में ख़ुशहाली ले आती
तुतलाती प्यारी बोली उसकी
मन को शीतलता दे जाती। 
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें