मेरी माँ

01-09-2019

मेरी माँ

आभा नेगी

आँख खुली तो
बस रोना आया
ना चुप हुई तो
मेरी माँ ने कराया।

 

स्पर्श पाते ही हँसने लगी
चूमा चेहरा तो एक
प्यारा सा एहसास हुआ
जो मुझे मेरी माँ ने कराया।

 

जब न बहलती
बस रोती रहती
माँ ख़ूब ठिठोली करती
माँ ने मुझे मुस्कुराना सिखाया।

 

थम-थम करके
पैर बढ़ाती, फिर झट से मैं गिर जाती।
तब माँ ने
हाथ पकड़कर चलना सिखाया।

 

कभी दा पर, कभी पा पर
मैं अटक जाती
फिर माँ ने मुझको
हँसकर बोलना सिखाया।

 

कितना प्यारा है
माँ का एहसास
कितना वह मुझको करती प्यार
कभी माँ ने
ये ना जताया।

 

आँख खुली तो
बस रोना आया॥

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो