मेरे ज़रूरी काम

15-03-2020

जिस रास्ते जाना नहीं
हर राही से उस रास्ते के बारे में पूछता जाता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 

जिस घर का स्थापत्य पसंद नहीं
उस घर के दरवाज़े की घंटी बजाता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 

कभी जो मैं करता हूँ वह बेहतरीन है
वही कोई और करे - मूर्ख है - कह देता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 

मुझे गर्व है अपने पर और अपने ही साथियों पर
कोई और हो उसे तो नीचा ही दिखाता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 

मेरे कदमों के निशां पे है जो चलता
उसे अपने हाथ पकड कर चलाता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 
और
 
मेरे कदमों के निशां पे जो ना चलता
उसकी मंज़िलों कभी ख़ामोश, कभी चिल्लाता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।
 

मैं कौन हूँ?
मैं मैं ही हूँ।
लेकिन मैं-मैं न करो ऐसा दुनिया को बताता हूँ।
मैं अपनी अहमियत ऐसे ही बढ़ाता हूँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
साहित्यिक आलेख
लघुकथा
सामाजिक आलेख
पुस्तक समीक्षा
सांस्कृतिक कथा
विडियो
ऑडियो