मेरे दादाजी

01-02-2021

मेरे दादाजी

आलोक कौशिक

वो हैं सबसे अच्छे 
वो सबसे प्यारे हैं 
पापा के पिताजी 
दादाजी हमारे हैं 
 
जागते हैं सवेरे 
भजन सुनाते हैं 
जगाकर मुझको 
योग करवाते हैं 
 
होती है शाम जब 
मैदान लेकर जाते हैं 
ख़ुद तो चलते हैं धीरे 
मुझको दौड़ाते हैं 
 
खेलते हैं मेरे संग 
कहानियाँ सुनाते हैं 
पढ़ना भी है ज़रूरी 
मुझको समझाते हैं 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
कविता
लघुकथा
कहानी
गीत-नवगीत
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में