मेरे बादल

01-08-2021

आकाश में जाते बादल
ज़मीन पर गर्म हवाओं
धूल भरी आँधियों के संग
उड़ रहे
सूखे कंठ लिए
हर कोई निहार रहा
पेड़ मानों कह रहे हों
थोड़ा विश्राम कर लो
हमारे गाँव में भी
सूखे कुओं, सूखी नदियों से भी
अब तो गीत नहीं गाया जा रहा
धूप तेज़ होने से
बेचारे पत्थरों को
चढ़ रहा बुखार
मेहँदी बिन त्योहारों के
अचानक आ धमकी
पगथली और हाथों में।
  
कच्ची केरिया दे रही आहुति
तपन के इस लू के खेल में
सड़कें हुईं वीरान
वृक्ष बुला रहे राहगीरों को
और उस पर रहने वाले रहवासियों को
वृक्ष के पत्ते
बादलों से मानों कह रहे हों
ज़रा जल्दी आना
बस, तुम ज़रा जल्दी आना
ताकि मैं तुम्हें ही
गंगाजल मान कर
तुम्हारे शुद्ध जल से तृप्त हो
जीवित रह सकूँ
जल्दी आओगे ना
मेरे सखा बादल।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें