मानव अस्तित्व

15-10-2020

मानव अस्तित्व

सतीश सिंह

कोरोना ने ज़िंदगी के
कैनवास पर रंग दी है
ख़ौफ़ की चित्रकारी
घर बन गये हैं पिंजरे 
विकसित होने के सारे दावे
धाराशायी हो गये हैं
एक वायरस ने 
बता दी है औक़ात 
पर, पेड़, पहाड़, नदी 
और हवा मुस्करा रहे हैं
चहकने लगी हैं चिड़ियाएँ 
विहँसने लगे हैं फूल-पौधे
नीला हो गया है आकाश
निर्मल हो गई है
नदी की धारा भी
आत्मसात करने होंगे 
कोरोना के सबक़  
त्यागने होंगे लालची प्रवृत्ति 
समझने होंगे हदों को
तभी बच पायेगा 
मानव अस्तित्व

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें