काजल लिखना
कँगना लिखना
लिखना मन की बातें।
 
आँसू लिखना
आँखें लिखना
यादों की तुम
पाँखें लिखना।
उम्मीदों की
थाती लिखना
दर्द विरह की
पाती लिखना। 
 
शब्दों को स्वर देकर लिखना
अनगिन विरही रातें।
 
उड़ते मेघा
रिमझिम बूँदें।
बैठे थे हम
आँखें मूँदें।
आँखें खोलीं
तपता मरुथल।
कितने कठिन
करुण थे वो पल।
 
जला जला कर तन मन अंतस
चली गईं बरसातें।
 
अक्षत दूबा
मंडप पंडित।
सात वचन क्यों
होते खण्डित।
अंतस काले,
बाहर सुंदर।
टूटे सपने,
किरचें अंदर।
 
फटते कटते रिश्ते लिखना
लिखना मीठी घातें।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में