20-02-2019

 मैं तो अभी बच्चा हूँ

राजेंद्र कुमार शास्त्री 'गुरु'

मैं यूँ ही अक्खड़ अटखेलियाँ करता रहता हूँ,
तेरी हर सलाह अच्छी होती है
पर मैं उन्हें दुत्कार देता हूँ
जब होती है साँझ तो तेरी ही
गोद में आँख मूँद लेता हूँ
क्योंकि मैं तो अभी बच्चा हूँ I

हर रोज़ की तरह तू एक ही राग अलापती है
चाहे मेरी ग़लती हो या न हो
फिर भी तू डाँटती रहती है
खुली आँखों में ऐसा क्या है
नींद आने पर ही क्यों दुलारती हो
आखिर माँ अभी तो मैं बच्चा हूँ

0 Comments

Leave a Comment