मैं लेखक हूँ

03-05-2012

मैं लेखक हूँ

नवल किशोर कुमार

मैं लेखक हूँ
तार्किक भौतिकता का अमर स्वरूप हूँ

 

समय की तेज धार समझता हूँ
हरदम कल्पनाओं की बात करता हूँ।
लेखनी के तीक्ष्ण स्वरों से,
जन-जन की बात कहता हूँ

 

समाज के बंधनों में जकड़ा
छटपटाहट में अकुलाता हूँ
मिटता नहीं मोह माया का,
ज़मीनी हक़ीक़त को झुठलाता हूँ।

 

काम, क्रोध और कामना हैं बंधु मेरे,
मोक्ष प्राप्ति की कामना करता हूँ।
तज स्वार्थ व निःस्वार्थ सब,
हर पल जीवन की सच्ची बात कहता हूँ

 

इतिहास का मूक साक्षी मैं,
इतिहास रचने की कोशिश करता हूँ।
समा इतिहास की गर्त में,
खोखली आत्मा का अन्वेशण करता हूँ।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ललित निबन्ध
सामाजिक आलेख
विडियो
ऑडियो