मैली नदी के ऊपर

15-04-2020

मैली नदी के ऊपर

राजनन्दन सिंह

मैली नदी के ऊपर
पुल से गुज़रती हुई
बस में बैठे हुए लोग
आपस में अक्सर 
ये बातें करते हैं
नदी की पानी को क्या हुआ
यह काली कैसे हुई?
इसमें दुर्गंध कहाँ से आई


पीछे बैठी घूँघट सँभालती
झुँझलाती स्त्री
बीच में बोली
नदी का पानी काला 
भला औेर 
कैसे होता है
कोई कलमुँहा अधर्मी
नदी के निर्मल धार में 
पीछे कहीं अपना 
काला मुँह 
धोता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो