मच्छर और भ्रष्ट अधिकारी

01-08-2020

मच्छर और भ्रष्ट अधिकारी

राजनन्दन सिंह

मच्छर और भ्रष्ट अधिकारी
बीमारी 
दोनों ही फैलाते हैं
एक शरीर में
दूसरा समाज में
मच्छर 
शरीर के पास आता है
समाज 
अधिकारी का चक्कर लगाता है
मच्छर को भय है
एक चपत और लाश गुम
अधिकारी अभय है
क्या कर लोगे
जहाँ जाना है जाओ तुम
मच्छर के भाग्य से 
अपर्याप्त  है मच्छरदानी
अधिकारी के भाग्य से 
पर्याप्त है मनमानी
दोनों ख़ुश रहते हैं 
खाते हैं पीते हैं गुनगुनाते हैं
मच्छर और भ्रष्ट अधिकारी
बीमारी 
दोनों ही फैलाते हैं
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में