प्रश्न बहुतेरे
मैं शतशः अनुत्तरित
सभी सबसे पूछते हैं
मैं ख़ुद से पूछता हूँ
अपना लक्ष्य/अपनी निजता
बेधते हैं मुझे
प्रश्नमाप के ओछे विकल्प
डॉक्टर, इंजीनियर, व्यवसायी
क्या बनना चाहते हो
क्या है तुम्हारे शोध का विषय
साध रहे निशाना किसे मानकर चिड़िया की आँख
नहीं रहा अध्यवसाय
‘अध्ययन’ बना व्यवसाय


मैं खड़ा रहा सवालों की भीड़ में
चुप्पी साधे
बना रहा अजायबी प्राणी
खुद को ढूँढता/ सुप्त को झकझोरता
स्वयं के विकल्प पर
छिड़कता संजीवनी रस
लगने लगे कहकहे
पूछा गया बार-बार
मुझसे मेरा इरादा/मेरी भिज्ञता


मेरे अंदर का सबल जीव अचानक चिल्लाया
मैं बनना चाहता हूँ ‘मानव’
नहीं भेदना चाहता किसी चिड़िया की आँख
नहीं छीनना चाहता उसकी दृष्टि
जिससे देखती है वह
जीव को जीवन से प्यार करते


मेरे शब्द आलोचित हुए
मैं बना पूरी भीड़ में हँसी का पात्र
मरेगा भूखों एक का अनुभव बोला
दूसरे ने ताना दिया- किसी अन्य ग्रह का प्राणी है
बाकी ने सामूहिक व्यंग्य उगला-


भाइयों,
दर छोड़ने से पहले ज़रूर पाओ इनका आशीर्वाद
आखिर ऐसे रश्मीरथी
आजकल मिलते ही कहाँ हैं
सबने एक पर हँसा.......
........और एक ने सब पर
सभी चले गए मुझे छोड़कर
किन्तु मैंने,
स्वयं को थामे रखा

मैं अनन्य, मूक
बचा शेष
स्वत्व की रक्षा में
स्वयं का साक्षी स्वयं का संबल

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
नवगीत
ग़ज़ल
कविता
अनूदित कविता
नज़्म
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो

A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: