मान लिया लोहा सूरज ने

15-05-2019

मान लिया लोहा सूरज ने

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

टिमकी घर से चली बाँधकर,
मुँह पर, सिर पर गमछा।

गरम-गरम लू के सर्राटे,
ताप सहा न जाये।
इंसानों को घर के भीतर,
ए.सी. कूलर भाये।

आग गिराता सूरज सिर पर,
घोड़े पर आ धमका।

इतनी गरमी फिर भी टिमकी,
को ट्यूशन जाना है।
गरम आग के शोले गिरते,
उनसे बच पाना है।

उसे याद है सिर गमछे का,
रिश्ता जनम-जनम का।

कान ढँक लिए, ओढ़ा सिर पर,
आधा मुँह ढँक डाला।
टू व्हीलर पर घर से चल दी,
वीर बहादुर बाला।

मान लिया लोहा सूरज ने,
भी उसकी दम खम का।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कहानी
बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो