मान लिया लोहा सूरज ने

15-05-2019

मान लिया लोहा सूरज ने

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

टिमकी घर से चली बाँधकर,
मुँह पर, सिर पर गमछा।

गरम-गरम लू के सर्राटे,
ताप सहा न जाये।
इंसानों को घर के भीतर,
ए.सी. कूलर भाये।

आग गिराता सूरज सिर पर,
घोड़े पर आ धमका।

इतनी गरमी फिर भी टिमकी,
को ट्यूशन जाना है।
गरम आग के शोले गिरते,
उनसे बच पाना है।

उसे याद है सिर गमछे का,
रिश्ता जनम-जनम का।

कान ढँक लिए, ओढ़ा सिर पर,
आधा मुँह ढँक डाला।
टू व्हीलर पर घर से चल दी,
वीर बहादुर बाला।

मान लिया लोहा सूरज ने,
भी उसकी दम खम का।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य नाटक
बाल साहित्य कहानी
कविता
लघुकथा
आप-बीती
विडियो
ऑडियो