लताएँ प्रेम करती हैं

01-08-2021

लताएँ प्रेम करती हैं

नीतू झा

लताएँ झूलना चाहती हैं बादलों पर 
ले आना चाहती हैं सूरज से सिंदूर
और फैला देती हैं वह सिंदूर 
सारी धरती पर
वे अगाध  प्रेम करती  हैं आकाश से
 
लताएँ पेड़ की टहनियों पर 
बेसुध हो झूमती हैं
टकराती हैं सावन की तेज़ हवा-पानी से
फिर धरती की धूल से महकतीं
वे प्रेम करती हैं आकाश से
 
लताओं को पता है
ये जीवन चार दिन का है
वे खोना नहीं चाहती 
मरने से पहले ही ज़िंदगी
तभी तो वे निडरता से 
प्रेम करती हैं आकाश से
 
लताएँ जानती हैं
सूरज डूबता नहीं,
छुप जाता है हमारे पीछे
वे जानती हैं प्रेम मरता नहीं,
फिर-फिर आता है
इसलिए वे डरती नहीं किसीसे
प्रेम करती हैं आकाश से
 
हाँ, लताएँ  प्रेम करती हैं आकाश से
अविचल!
अविरत!!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें